rojirotitech logo

About

मेरे बारे में

मेरा नाम रंजन कुमार है। rojirotitech.com ब्लॉग का संस्थापक या कहें लेखक तत्काल मैं ही हूँ । इसलिए मैं अपने बारे में अच्छी तरह आप सभी को बताना चाहता हूँ । ये मेरी सबसे बड़ी जबाबदेही है । वैसे इस ब्लॉग की शुरुआत कैसे हुई ? इसके पीछे लंबी कहानी है जो मैं आप सभी को शार्ट में आगे बताऊंगा । पहले मेरे बारे में जान लीजिए ।

मैंने 2014 में पूर्णिया कॉलेज पूर्णिया बिहार से Bsc (maths) कंप्लीट किया । उसके बाद मैंने UPSC की तैयारी शुरु की वैसे ग्रैजुएशन 1st ईयर से मेरे पढ़ाई में एक्स्ट्रा पढ़ाई जुड़ने लगा वह था । वह था :- मैगजीन ,न्यूज़ पेपर और UPSC लेवल की बुक्स पढ़ना । साथ मैं थोड़ा बहुत रेगुलर internet से भी जुड़ने लगा । उस समय 2G नेटवर्क ही हुआ करता था । 128 रुपैया में 1GB डेटा 28 दिन के लियेे मिलता था । ये 1GB डेटा 28 दिन में खत्म भी नहीं होता था । उस समय इंटरनेट पर सिर्फ वेब सर्च हुआ करता था । जानकारी भी इंटरनेट पर उतना उपलब्ध नहीं था ।

इसी समय सबसे पहले मैंने ऑनलाइन एक टेबलेट खरीदा फिर अपना रुपैया का एक मैक्रोमैक्स का छोटा मोबाइल खरीदा । ये मोबाइल बहुत लंबा साथ निभाया । ये 2G मोबाइल था । लेकिन इंडिया में 4G आने के बाद मैंने wifi के जरिए इस मोबाइल में 4G नेट चलाने लगा बहुत सारी काम मेरा इस मोबाइल से हो जाता था ।कुछ दिक्कत नहीं थी । उसके बाद मैंने डेक्सटॉप लिया डेक्सटॉप लेने के बाद मेरा इंटरनेट पर बहुत विस्तार हो गया । जिसमें यूट्यूब , ब्लॉगिंग प्रमुख रूप से शामिल हो गया ।

इंडिया में 4G के विस्तार के बाद मेरा बहुत सारी पढ़ाई धीरे – धीरे ऑनलाइन शिफ्ट होती गई मैंने तब से कोई एक्स्ट्रा फिजिकल क्लास नहीं कि इस बीच सिर्फ एक क्लास की वह थी वह था afeias की । जो फिजिकल थी । यह क्लास 15 दिन की 6 घंटे वाली क्लास थी वह क्लास मेरे व्यक्तित्व को पूरी तरह बदल दिया । मुझे कैसे पढ़ना चाहिए , कैसे टाइम मैनेज करना चाहिए । सारी चीज Dr. Vijay agrawal से मैंने जानी । यह क्लास UPSC अस्पिरेन्ट के लिए होती है ।

इस फिजिकल क्लास के बाद मैंने कोई फीजिकल क्लास नहीं कि । अब मेरा 95 प्रतिशत पढ़ाई हो या कोई और काम ऑनलाइन से ही होता है ।

मेरा मानना है और आप किसी भी चीज के बारे में अच्छी नॉलेज रखते हैं तो internet आपको एक अच्छा मौका देता है उस नॉलेज को संभालने का और लोगों तक आसानी से पहुचने का ।

मेरी शिक्षा

मैंने 2014 में BSc (maths) से ग्रैजुएशन किया । maths में एक टॉपिक हुआ करता था । बेसिक कंप्यूटर का । इससे हमें कंप्यूटर और नई तकनीकी जानकारी समझने में मदद मिली । हिंदी में एक पत्रिका आती है ” विज्ञान प्रगति ” मैंने इस पत्रिका का नियमित पाठक रहा हूँ ।

मैंने जब अपना पहला टैबलेट 2012 में खरीदा था । तब से मुझे एंड्राइड ओपरेटिंग सिस्टम के जनकरी में रुचि बढ़ने लगी । उसके बाद मोबाइल के पार्ट्स के बारे में । जैसे सॉफ्टवेयर पार्ट में मुख्य मोबाइल ओपरेटिंग सिस्टम , कस्टम ओपरेटिंग सिस्टम , मोबाइल एप्लीकेशन, मोबाइल एप्लीकेशन कैसे बनाया जाता है ?, बेब डिजानिग इत्यादि । उसके बाद हार्डवेयर में मोबाइल के हरेक पार्ट ,कैमरा पार्ट ,बैटरी पार्ट ,प्रोसेसर पार्ट इत्यादि के बारे में , मैंने जानकारी इकट्ठा की ।

एंड्राइड टैबलेट में मैंने बहुत एक्सपेरिमेंट किये हैं । जिससे वह टैबलेट खराब भी हो गया उसके बाद उसे छोड़ दिया । एक एंड्राइड मोबाइल खरीदा । वह मोबाइल उतना power फुल नहीं था । लेकिन उस मोबाइल में मैंने बहुत सारे हार्ड प्रोसेसिंग वाला काम किया । लेकिन लास्ट तक उस मोबाइल को मैंने खराब होने ही नहीं दिया । वह एक 2G नेटवर्क सपोर्टेड मोबाइल था उसमें मैंने 4G स्पीड वाला नेटवर्क से इंटरनेट चलाया है ।उस मोबाइल का अंदुरुनी भाग खराब नहीं हुआ । लेकिन उसका बैक साइड गिरने से टूट गया । मैंने उस मोबाइल को छोड़ दिया । उसके बाद डेक्सटॉप लिया । मैंने कंप्यूटर के बारे में और एक्स्ट्रा चीज पढ़ा और एक्सपेरिमेंट किया । कंप्यूटर के हार्डवेयर ,सॉफ्टवेयर के बारे में जानकारी इक्कठा की ।

मैंने अपना पहला ब्लॉग ब्लॉगर पर बनाया जो एडसेंस से मोनेटाइजेशन भी हुआ । उस ब्लॉग पर मैंने शुरुआती दौर में मोबाइल से रिलेटेड आर्टिकल पोस्ट करने लगा । लेकिन गूगल ब्लॉगर पर अच्छी डिजायनिंग नहीं कर पता था अपने पोस्ट को । उसके बाद मैंने वॉर्डप्रैड पर अपना ब्लॉग स्टार्ट किया जो rojirotitech.com है । मुझे आर्टिकल लिखने का सिस्टम शुरुआत में पता नहीं था । मैंने बहुत कुछ जानने का प्रयास किया । जिसके बाद मेरे ब्लॉग सुधरने लगा । खैर ,अभी भी प्रयास जारी है ।

ranjan kumar
ranjan kumar admistrator of rojirotitech blog

About rojirotitech

rojirotitech एक हिंदी टेक ब्लॉग हैं। इस ब्लॉग पर मोबाइल्स रिव्यु, टेक न्यूज , मोबाइल एसेसिरीज , टेक गैजेट , टेक नॉलज इत्यादि के बारे में आर्टिकल लिखे जाते हैं। वो भी हिंदी के सरल भाषा में ताकि इस डिजिटल दुनिया में ज्ञान अर्जित करने के लिए भाषा का कोई बंधन न हो। हमें क्या करना चाहिए अगर आप कोई सजेशन देना चाहेगें तो प्लीज जरूर दीजिये। आपका सजेशन हमारी ताकत है। इससे हम समय के साथ आपके अनुसार इस ब्लॉग को ढाल सकेंगे।

हमारा मकसद हिंदी भाषा में सरल तरीका से अच्छी और ज्ञानवर्धक जानकारी उपलब्ध कराना है ।

थैंक्स ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *