Mobile Ki Speed Kaise Badhaye (1सेकंड में) ये तरीका अपनाये

अभी के समय में मोबाइल की जानकारी नहीं है तो आप कितने भी महगें मोबाइल यूज करें आपको कुछ न कुछ प्रॉब्लम आएगी ही। या तो कुछ दिन मोबाइल चलने के बाद मोबाइल की स्पीड धीमी हो जाएगी या इंटरनेट स्पीड कम हो जाएगी। इसके लिए आप कंपनियों को दोष देंगे।

mobile ki speed kaise badhaye सिर्फ ये तरीका अपनाये
Mobile ki speed badhega

आपको बता दें की मोबाइल की स्पीड 60 प्रतिशत आपके हाथ में रहता है। आप चाहे तो अपने मोबाइल की स्पीड हमेशा तेज रख सकते हैं।

लेकिन आप मोबाइल खरीदते हैं तो अब सबसे पहले रैम देखते हैं की कितना ज्यादा रैम है। आपको लगता है की रैम जितना ज्यादा रहेगा मोबाइल की स्पीड उतनी अच्छी होगी ! लेकिन ऐसा नहीं है ये अधूरी सच है। रैम चाहिए लेकिन कितना चाहिए और किस तरह का रैम रहना चाहिए, स्टोरेज कितना रहना चाहिए और किस तरह का स्टोरेज रहना चाहिए। सारी जानकारी इस आर्टिकल में देने वाला हूँ।

अच्छे स्पीड के लिए ऐसे खरीदें कोई मोबाइल्स

अगर आप अभी मोबाइल नहीं ख़रीदे हैं और खरीदने वाले हैं तो तो मेरे इन कुछ बातों को ध्यान में रखिये। आपकी आधी परेशानी खत्म हो जाएगी। क्योंकि कहीं न कहीं आपके मोबाइल के फीचर्स और स्पेसिफिकेशन बहुत रोल निभाता है मोबाइल की स्पीड के लिए।

किसी भी ब्रांड का मोबाइल खरीद रहें हैं तो इन छह पॉइंट को देख कर खरीदिये मोबाइल कभी भी हैंग नहीं करेगा और स्पीड भी बहुत अच्छी रहेगी।

  1. प्रोसेसर (processor)Top Chipset
  2. ऑपरेटिंग सिस्टम (oprating system)
  3. रैम (RAM)
  4. स्टोरेज (Storage)
  5. डिस्प्ले (Display)
  6. बैटरी (Battery)

किसी भी मोबाइल्स के लिए प्रोसेसर बहुत ही मायने रखता है। मैंने बहुत लोगों से पूछ आपके मोबाइल में कौन सा प्रोसेसर लगा हुआ है ? लोगों को पता भी नहीं होता है की मोबाइल में प्रोसेसर नाम का भी कोई चीज होता है।

जब आपको ये पता नहीं है की कौन सा प्रोसेसर लगा हुआ है तो आपको कैसे पता चलेगा की किस प्रोसेसर में कितनी क्षमता है। आपको बता दें की प्राइस के अनुकूल प्रोसेसर भी मिलता है। तो आप प्राइस के अनुकूल ही अपनी मोबाइल की क्षमता हो आंक सकते है।

अगर मोबाइल स्लो चलता है तो ये करें

अगर आप मोबाइल पहले ही सोच समझ कर नहीं ख़रीदा है और मोबाइल हैंग करता है और मोबाइल स्लो है। रैम बहुत ज्यादा है तब भी स्लो चलता है। ऐसा क्यों होता है ? अगर ऐसा होता है तो क्या करें। चलिए जानते हैं डिटेल में।

अगर मोबाइल स्लो चल रहा है या नेट फ़ास्ट नहीं चल रहा है तो सबसे पहले अपने मोबाइल में कुछ चीज को देखिये। नीचे बताया गया है।

  1. मोबाइल अभी हीट है।
  2. मोबाइल का बैटरी बहुत कम है।
  3. चार्ज में लगा कर मोबाइल चला रहें हैं।
  4. बैकग्रॉउंट में बहुत सारे एप्लीकेशन चल रहा है।
  5. मोबाइल स्टोरेज भर गया है।
  6. मोबाइल में फालतू एप्लीकेशन है।
  7. एप्लीकेशन का वजन बढ़ गया है।

मोबाइल हीट हो रहा है ये करें

अगर आपका मोबाइल हीट है मतलब गर्म है तो मोबाइल स्लो चलेगा और हैंग भी करेगा। इसके लिए जब आपका मोबाइल गर्म होता है तो उसे चलना छोड़ दे उसे किसी ठंडे जगह में रख दें फ्रीज़ में नहीं रखना है। जब आपका मोबाइल ठंडा हो जाता है तब उसे चलाये।

मोबाइल गर्म होने के बहुत सारे कारण हो सकते हैं। जैसे किसी गर्म जगह पर मोबाइल चलना,धुप में मोबाइल चलना, चार्जिंग के वक्त भी मोबाइल गर्म होता है, बैकग्रॉउंट में एप्लीकेशन का चलना ,हैवी एप्लीकेशन को चलना जैसे गेम, वीडियो एडिटिंग, वीडियोग्राफी

सबसे पहले तो अपने मोबाइल को समझिये की ये कौन कौन से काम को झेल सकते हैं। उसके हिसाब से मोबाइल पर काम कीजिये। ज्यादा गर्म मोबाइल का यूज नहीं करना चाहिए ये फट भी सकता है। फ़ास्ट चार्जर भी मोबाइल को हीट करता है सबसे अच्छा फस्ट चार्जर 20 वाटस से कम को ही माना जाता है। वैसे फ़ास्ट चार्जर जितने वाटस का आपके मोबाइल सपोर्ट करता है उससे कम ही यूज करते हैं तो अच्छा मना जाता है।

मोबाइल कब नहीं चलना चाहिए

मोबाइल अगर चार्ज में लगा कर चला रहें हैं तो ऐसा बिलकुल भी न करें। अगर चार्ज में लगा कर मोबाइल चला रहें हैं तो मोबाइल स्लो होगी ही क्योकि चार्जिंग के समय मोबाइल हीट होता है अगर हीट होता है तो मोबाइल स्लो होगा ही। वैसे भी चार्जिंग के समय मोबाइल नहीं चलना चाहिए क्योंकि चार्जिंग के समय में मोबाइल के बैटरी में कैमिकल रिएक्शन होते रहता है और मोबाइल चलते हैं तो बैटरी से कर्रेंट भी लेते रहता है मोबाइल।

इसलिए उस समय आपके मोबाइल के बैटरी पर दो तरह के काम होने लगता है एक तो करंट लेना और दूसरा करंट देना। मेरे अनुसार ऐसा नहीं करना चाहिए।

बैकग्राउंड एप्लीकेशन बंद करें मोबाइल फ़ास्ट चलेगा

बैकग्राउंड में बहुत ज्यादा एप्लीकेशन चल रहा है तो मोबाइल स्लो होगा ही क्योंकि उस समय मोबाइल पर ओवरलोड रहता है। जब कोई हार्ड वर्क अपने मोबाइल पर कर रहें हैं तो बैकग्राउंड में चल रहें फालतू के एप्लीकेशन को बंद कर दीजिये आपका मोबाइल ठीक से वर्क करने लगता है।

वैसे बहुत सारे सॉफ्टवेयर आपके मोबाइल में हमेशा चलते रहता है। वे सॉफ्टवेयर ऑपरेटिंग सिस्टम का ही हिस्सा होता है और वह रन नहीं करेगा तो आपका मोबाइल भी नहीं चलेगा। इसलिए जब आपके मोबाइल का रैम 4gb रहता है और रैम को क्लियर करते हैं तो सिर्फ 2gb के लगभग ही रैम खली हो पता है। जो 2gb रैम आपके मोबाइल में भरा रह गया उस 2gb में ऑपरेटिंग सिस्टम का सॉफ्टवेयर रन करते रहता है।

स्टोरेज मैनेज ऐसे करें मोबाइल फ़ास्ट चलेगा

मोबाइल के स्टोरज अगर फुल हो गया है तो भी आपका मोबाइल स्लो काम करेगा और हैंग भी करेगा। सबसे ज्यादा मोबाइल स्लो और हैंग इसी वजह से होता है। जब आप कोई भी एप्लीकेशन को डाउनलोड करते हैं और इन्टॉल करते हैं तो वह स्टोरेज में ही रहता है। और जब आप उसे खोलते हैं तो वह रैम मेमोरी में कॉपी होके आता है।

अगर मोबाइल के स्टोरेज की स्पीड कम है तो वह खुलने में देरी करेगी। और अगर मोबाइल स्टोरेज फुल है तब भी बहुत देरी से एप्लीकेशन या दूसरे फाइल खुलेगा। अगर ऐसा है तब भी मोबाइल स्लो होगा। इसके लिए आप अपने मोबाइल के स्टोरेज को ज्यादा से ज्यादा खाली कर के रखिये।

फालतू एप्लीकेशन को ऐसे डिलीट करें मोबाइल फ़ास्ट चलेगा

मोबाइल में फालतू के एप्लीकेशन रखेंगे जिसका यूज आप नहीं करते हैं तो मोबाइल स्लो और हैंग होगा ही। पहली बात तो वह एप्लीकेशन आपके स्टोरेज को भर कर रखेगा दूसरी बात यह है की बैकग्राउंड में वह फालतू के एप्लीकेशन चलते रहेगा जिससे मोबाइल स्लो काम करेगा।

इसलिए ऐसे एप्लीकेशन नहीं रखें मोबाइल में जिसे आप यूज नहीं करते है। अगर आपको लगता है की ये एप्लीकेशन बहुत काम का है और बाद में यूज करगें तो आप डिलीट कर दीजिये क्योंकि वह एप्लीकेशन कहीं जाने वाला नहीं है वह प्ले स्टोर पर ही रहेगा कभी भी इंस्टाल कर सकते हैं।

अगर एप्लीकेशन का साइज बड़ा है आप चाहते हैं की इसे मोबाइल में ही रखना चाहिए तो आप उस एप्लीकेशन का बैकअप कर के sd कार्ड में सेव कर लीजिये जब जरुरी होगा तब इन्टॉल कर लीजियेगा फिर उसे अनइंटॉल कर दीजियेगा। मोबाइल एप्लीकेशन जितना कम रखेंगे उतना अच्छा होगा।

एप्लीकेशन का वजन को घटाएं मोबाइल फ़ास्ट चलेगा

एप्लीकेशन का वजन से मेरा मतलब है एप्लीकेशन के साइज को बढ़ना जब आप कोई एप्लीकेशन डाउनलोड करते है तो कम साइज का रहता है औरजब आप कुछ दिन उस एप्लीकेशन का यूज करते हैं तब एप्लीकेशन का साइज बढ़ जाता है।

एप्लीकेशन का साइज इसलिए बढ़ता है क्योंकि एप्लीकेशन पर जो भी एक्टिविटी करते है वह एक प्रोजेक्ट के रूप में स्टोर होते रहता है उस एप्लीकेशन में। इससे आपके एप्लीकेशन भी स्लो हो जाता है और स्टोरेज भी भरता है। इसके लिए एप्लीकेशन के कैच को समय समय पर क्लीन करते रहना चाहिए हो सके तो एप्लीकेशन को रिस्टोर भी करना चाहिए।

मोबाइल की स्पीड हमेशा बरक़रार रखने के लये ऐसा करें

मोबाइल के स्पीड को हमेशा एक जैसा रखने के लिए आपको फालतू एप्लीकेशन मोबाइल से हटा देना चाहिए या डिसेबल कर देना चाहिए। और मोबाइल के स्टोरेज को हमेशा खाली रहें। मोबाइल को हीट न होने दे। ऐसे मोबाइल ख़रीदे जिसमे ब्लॉट बेयर न हो मतलब विज्ञापन न हो। ऑपरेटिंग सिस्टम बहुत ऑप्टिमाइज़ और हल्का रहना चाहिए।

इन्हें भी पढ़ें:-(टेक न्यूज़)

[ ये जानकारी लेखक के अपने अनुभव, प्रयोग और वास्तिवक जानकारी पर आधारित है ]

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *